Wednesday, January 12, 2011

मुझे मिली परी- डॉ नूतन गैरोला- १२ जनवरी२०११

                     
                                               मुझे मिली परी”            
 
                                     mother_child_79
 
तलबल पानी के कोटर में / अन्धकार के गोले में / कुछ धमनियों का शोर था / सिकुड़ी सिमटी /सकुचाई अधखिली / मैं खिलने को, खुलने को बेताब थी / रौशनी के पुंज संग /वो परी आई / उठा लिया उसने / लगा लिया वक्ष से / आँचल तले छुपा के / कुदृष्टि से बचा के / अमृतपान दिया मुझको / कंपकंपाते लड़खड़ाते क़दमों को गिर गिर के भी उठना, उठ कर चलना आगे बढना सिखाया मुझको / जिंदगी की दौड को नैतिकता से जीतूं ऐसा सन्मार्ग  दिखाया मुझको / जीवन के सौपानों में चढ़ लक्ष्यभेद सिखाया मुझको / मेरे लिए दुवा में उठे हाथ उनके कभी झुकते ना थे / थके ना कभी थे संवारने में मुझको | मेरी चुप्पी को मेरे मन की अनकही बातों को बिना बोले जो समझती थी, वो तुम्हारी दो नीली हरी झील सी आँखें थीं | तुम मेरे जीवन की सबसे सुन्दर परी हो जिसकी गोद में लोरियों  के  मीठे सुरों के संग सोयी हूँ..जिसने अपनी आखिरी सांसों तक मुझे बेशुमार प्यार किया .. तुम मेरे जीवन की पहली परी - तुम मेरी माँ हो |
 
                       
 
और तुम एक दिन उड़ गयीं | उस टिमटिम तारे के पास जहाँ से परियाँ उतरती हैं क्यूंकि तुम्हारे लिए वापस आने का हुक्म था | तुम रुकना चाहतीं थीं और तुमने हिम्मत भी न हारी, पर समय इतना ही दिया था विधाता ने हमारे साथ के लिए किन्तु जाने से पहले तुम् सुनिश्चित कर गयीं, मुझको हर खुशी दे कर गयीं ..मेरी गोद में इक नन्ही परी थी-
 
जिसकी चाहत थी मुझको | इक सुन्दर, प्यारी, तितली सी  उड़ती - कूदती, रंग भरती प्यार करती- इक परी की और वो परी मुझे मिल गयी| कभी मेरी गोद में बैठती, कभी काँधे पे कभी फुर्र उड़ती सी आँगन में उछलती , कभी दौड़ कर आती प्यार करती, कभी स्नेह से बालों को सहलाती, छोटी हो तुम पर सीख सिखाती , खाली वक़्त में मुझ संग मधुर गीत गुनगुनाती, मै उदास हो जाऊं तो गुदगुदाती मुझे हंसाती, घर में सबका ख्याल करती, जिस पर मुझको नाज़ है ---
                              16766_1217017319939_1664044845_526918_7144621_n
तुम मेरी बेटी हो .. अपने प्यार और नटखट भरी हरकतों से घर को रंग दिया है तुमने – मेरी माँ का आशीर्वाद हो तुम – उस परी की गोद से उतरी थी मै – और मेरी गोद में एक परी थी ..
 
ठुमक ठुमक के आती थी तुम
छम छम नाच दिखाती थी तुम
किलकिलकिल किलकारियों के संग
मन को मेरे गुद्गुदाती थी तुम
 
चंचल सी तुम मासूम बहुत हो
मन को बहुत लुभाती हो तुम
कोमल हाथो से हाथ तुम थामती
प्रेम हिलोरे जगाती हो तुम |
 
मेरे आँगन की चिड़िया हो तुम
चहक चहक इक रौनक हो तुम
प्रेम बरसात की बदली हो तुम
बसंत बयार सम बहती हो तुम |
 
मेरे भाल पर टीका  हो तुम
मेरे जीवन की शान हो तुम |
जग में मेरी पहचान हो तुम
तुम मेरी बेटी, मेरा नाम हो तुम
तुम मेरी परी, मेरी जान हो तुम |
          
                           25900_1315307697137_1664044845_726319_4075936_n                                  
 
आज जन्मदिन पर शुभकामनाएं कि  दुनियां - जहाँ  की सारी खुशियाँ मिले, तुम सदा खुश रहो , दीर्घायु और स्वस्थ रहो, सदा नेक कर्म करो, सबका का सम्मान करो | यूं ही हंसती गाती मुस्कुराती रहो | खुश रहो और खुशियों का पर्याय बनो - चिरंजीव भव |          
 
                                 priya birthday..
                                   प्रिय बेटी को जन्मदिन पर शुभकामनाएं

                                              सुन्दर स्वास्थ औ मन का हो तुझ संग  डेरा
कामयाबी के शिखर पे हो तेरा बसेरा 
दुवा है प्यार हो अपनों का, लंबी उम्र
  खुशहाल घर और कामयाब सपनों का !!
                    
                                        द्वारा- मम्मी - डॉ नूतन गैरोला
              प्यारी बेटी सौम्या के विद्यालय के वार्षिकोत्सव की एक विडियो |

   







       सौम्या का पसंदीदा टी वी सीरियल – “कितनी मोहब्बतें “ उसका गीत गाती हुवी






बाद में जोड़ा

मैंने यही पोस्ट  सुबह प्रकाशित की थी किन्तु एडिट करते समय वह मिट गयी और दुबारा वापस नहीं आई अतः उस वक़्त जो कमेन्ट मित्रों ने बेटी को आशीर्वाद स्वरुप दिए थे उनकी कॉपी में यहाँ पर पेस्ट कर रही हूँ ..आप अन्यथा नहीं लेंगे


        bday-1
                         

                          निर्मला जी
                          रोशी जी
                          जोगेंदर भैया

                          आप का तहे दिल शुक्रिया !!


bday 2
  
सदा जी
रश्मि प्रभा जी
कैलाश जी
शास्त्री जी
तहेदिल शुक्रिया ! सादर अभिनन्दन

bday3

अनीता जी
प्रवीन जी
प्रतिबिम्ब जी
सादर शुक्रिया | स्नेहभरा अभिनन्दन







58 comments:

  1. माँ बेटी के रिश्ते की सुन्दर अभिव्यक्ति। सौम्या को जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई और आशीर्वाद।

    ReplyDelete
  2. नूतन जी आपकी रचना बहुत सुंदर है मेरी बेटी को मै भी प्यार से परी कहती हूँ रचना पड़ कर उसकी याद आ गयी

    ReplyDelete
  3. नूतन जी आपकी रचना बहुत सुंदर है मेरी बेटी को मै भी प्यार से परी कहती हूँ रचना पड़ कर उसकी याद आ गयी

    ReplyDelete
  4. नूतन जी आपकी रचना बहुत सुंदर है मेरी बेटी को मै भी प्यार से परी कहती हूँ रचना पड़ कर उसकी याद आ गयी

    ReplyDelete
  5. नूतन जी आपकी रचना बहुत सुंदर है मेरी बेटी को मै भी प्यार से परी कहती हूँ रचना पड़ कर उसकी याद आ गयी

    ReplyDelete
  6. नूतन जी आपकी रचना बहुत सुंदर है मेरी बेटी को मै भी प्यार से परी कहती हूँ रचना पड़ कर उसकी याद आ गयी

    ReplyDelete
  7. निर्मला जी...
    रोशी जी..

    सादर शुभप्रभात .. और आपका हार्दिक धन्यवाद..

    ReplyDelete
  8. मेरे भाल पर टीका सम्मान हो तुम
    मेरे जीवन की शान हो तुम |
    जग में मेरी पहचान हो तुम
    तुम मेरी बेटी, मेरा नाम हो तुम

    बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द इस रचना के ....शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  9. pyaari bitiya ko mera bhi dheron pyaar dulaar aashish......

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण माँ बेटी के रिश्तों का चित्रण...बिटिया को जन्मदिन पर हार्दिक शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  11. जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई।
    परी जैसी बिटिया को!

    ReplyDelete
  12. आपको बेटी के जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  13. बिटिया के ऊपर इतनी प्यारी कविता पढ़कर बहुत ही अच्छा लगा। सुन्दर, सरल, मर्म बताती हुयी।

    ReplyDelete
  14. नूतन जी प्रिय सौम्या के जन्मदिन पर हमारी ओर से बहुत बहुत बधाई एवम शुभकामनाये!!!! आप ने बखूबी अपने इस रिश्ते की सुंदरता, मधुरता और उससे से झरते प्रेम को बयां किया है। आप और परिवार के सभी सद्स्यो को भी शुभकामनाये!! पुन: बहुत बहुत बधाई सौम्या बेटा!!

    ReplyDelete
  15. मुझे दुःख है कि कुछ एडिट करते समय यह पोस्ट जाने कैसे मिट गयी.. जबकि मैंने कण्ट्रोल Z .दबाया था| इस बात का मुझे दुःख हँसी ..किन्तु खुशी है की आप की शुभकामनाएं मेरे पास इस अवसर पर पहुची... मै इस पोस्ट को पुनः पोस्ट करुँगी क्योंकि वह मेरे पास सेव है..
    प्रतिबिम्ब जी
    प्रवीण जी
    अनीता जी
    शास्त्री जी
    कैलाश जी
    रश्मि जी
    जोगेंदर भाई जी...
    निर्मला जी
    रोशी जी

    आप का दिल से धन्यवाद और स्नेह..
    मै यहाँ पर पुनः उसे पेस्ट करने की कोशिस करुँगी..

    ReplyDelete
  16. Saumya ko janmdin ki hardik subh kamaanayen.
    Bitiya ki hansi aise hi bahi rahe, uske sukhad bhavishya ki manokamnaye,....

    ReplyDelete
  17. नूतन जी, आपको बिटिया सोमिया के जन्मदिन की बहुत बधाई ..व प्यारी बिटिया को शुभाशीष....बहुत ही सुंदर भावपूर्ण और शुभाशिशो से पूर्ण रचना ......बहुत ही सुंदर ...

    ReplyDelete
  18. जाकिर जी
    चन्द्र भैया
    रेनू जी !!
    सादर शुक्रिया .. .

    ReplyDelete
  19. मां बेटी के रिश्तों की अभिव्यक्ति बहुत ही नज़ाकत और सार्थकता से लबरेज़ है , बधाई।

    ReplyDelete
  20. नूतन जी,
    सौम्या बिटिया को जनम दिन की ढेरों बधाईयाँ !
    कोमल भावनाओं से विभूषित सुन्दर,मन को स्पर्श करतीं पंक्तियाँ !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  21. dr.nutanji bitiya ko jandivas ki meri dheron shubhkamnayen.sanyog se meri beti ka nam bhi saumya hai.

    ReplyDelete
  22. प्यारी बिटिया को शुभाशीष और ढेरों शुभकामनायें....

    ReplyDelete
  23. काफी भावपूर्ण अभिव्यक्ति. मेरी ओर से भी शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर रचना ...... बिटिया को हार्दिक शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  25. सौम्या दीदी को जन्म दिन की बधाई.....
    सक्रांति ...लोहड़ी और पोंगल....हमारे प्यारे-प्यारे त्योंहारों की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  26. नूतन जी आपका लेखन बहुत प्रभाव शाली है । मेरा निवेदन है कि आप आप हाइकु भी लिखिएगा । आपका मेल आई डी क्या है ?
    समय मिले तो यहाँ भी पधारें=http://wwwsamvedan.blogspot.com/
    http://hindihaiku.wordpress.com/

    www.laghukatha.com
    ्रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'
    rdkamboj@gmail.com

    ReplyDelete
  27. लोहड़ी और मकर संक्रांति की शुभकामनायें.

    बिटिया को जन्म दिन की हार्दिक बधाई और आशीर्वाद कहियेगा.

    ReplyDelete
  28. प्रेम बरसात की बदली हो तुम
    बसंत बयार सम बहती हो तुम |
    ... bahut khoob ... behatreen !!
    ..... janmdin ki haardik badhaai va shubhakaamanaayen !!

    ReplyDelete
  29. बिटिया को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें और आशीर्वाद्…………बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति माँ बेटी के रिश्ते की…………कल मेरी बिटिया का भी जन्मदिन है।

    ReplyDelete
  30. मनमोहक ब्लॉग तथा सीधा सच्चा और बहुत अच्छा लेखन - बधाई तथा हार्दिक शुभकामनाएं - जुग जुग जियो सौम्या

    ReplyDelete
  31. मकर संक्रांति की शुभकामना सहित आपको इस सुन्दर सी परीकथा के लिए,मेरे ब्लॉग पर आकर उत्साहवर्धन करने के लिए,मेरी गज़ल को चर्चामंच में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद करता हूँ.

    ReplyDelete
  32. मकर संक्रांती की शुभकामना सहित आपको इस सुन्दर परीकथा के लिए,मेरे ब्लॉग पर आकर उत्साहवर्धन के लिए,मेरी गज़ल को चर्चामंच में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद अदा करता हूँ.

    ReplyDelete
  33. देर से सही पर, सौम्या को कोटि कोटि शुभकामनाएँ!!

    लोहड़ी,पोंगल और मकर सक्रांति : उत्तरायण की ढेर सारी शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  34. नूतन जी,
    आपका बहुत-बहुत धन्यवाद...आज आपने मेरे ब्लॉग को चर्चा मंच पर लिया !
    आपकी माँ-बेटी की कविता तो दिल में उतर गई !
    रामेश्वर जी ने बिल्कुल सही कहा है कि आप हाइकु लिखें !
    लिंक एक बार फिर से लिख रही हूँ
    http://hindihaiku.wordpress.com

    हरदीप

    ReplyDelete
  35. माँ बेटी के रिश्ते की सुन्दर अभिव्यक्ति। सौम्या को जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई और आशीर्वाद।

    ReplyDelete
  36. आपने इस बार अपनी बेटी की वीडियो के साथ ही बहुत अच्छे संगीत का अपनी पोस्ट में समावेश किया है. उसके लिए आपका उपरोक्त पोस्ट को सबसे पोस्ट बन गया है. क्या आप मुझे अनपढ़ व ग्वार इंसान की एक मदद कर सकती है. मेरे पास जनहित में कुछ वीडियो है. मगर मुझे नहीं पता कि-उनको ब्लॉग पर कैसे डाला जाता है. अगर आम बोलचाल की हिंदी भाषा में यह बता दें तो शायद मेरी पत्रकारिता के माध्यम से कुछ लोगों का भला हो जायेगा. मेरी email: sirfiraa@gmail.com है.

    ReplyDelete
  37. परी सी मां और परी सी बेटी...
    वाह, बहुत ही सुंदर कल्पना,
    कल्पना क्यों ,यही तो यथार्थ है।

    एक श्रेष्ठ कविता का सृजन किया है आपने।

    बेटी को जन्म दिन की अनेक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  38. अच्छी अभिव्यक्ति, सुदर कोमल भावनाएं उतने ही कोमल अहसास सराहनीय प्रस्तुति. बिटिया रानी को जन्म दिन की ढेरों शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  39. आदरणीय नूतन जी ,मेरी भी एक बेटी है.मैं आपके विचारों को समझ सकता हूँ. पर आपके जैसा पोस्ट नहीं कर सकता.आपको और आपकी बेटी को शुभ कामनाएं.

    गर तेरा बचपन नहीं होता,
    घर मेरा गुलशन नहीं होता.

    ReplyDelete
  40. आदरणीय नूतन जी ,मेरी भी एक बेटी है.मैं आपके विचारों को समझ सकता हूँ. पर आपके जैसा पोस्ट नहीं कर सकता.आपको और आपकी बेटी को शुभ कामनाएं.

    गर तेरा बचपन नहीं होता,
    घर मेरा गुलशन नहीं होता.

    ReplyDelete
  41. नूतन जी ,

    क्षमा चाहूंगी यहाँ देर से आने के लिए ...

    बेटी के जन्मदिन पर न सही पर उसकी ज़िंदगी के लिए ढेर सारा आशीर्वाद और शुभकामनायें

    ReplyDelete
  42. बिटिया को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  43. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना आज मंगलवार 18 -01 -2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/2011/01/402.html

    ReplyDelete
  44. बिलम्बित , बिटिया को जन्म दिन की ढेर सारी शुभ कामनाएं . पद्यात्मक गद्य की प्रवीणता है आप में

    ReplyDelete
  45. पढ़कर आँखें नम हो गयी, बहुत ही सुन्दर तरीके से आप ने अपनी भावनाओं को शब्दों में पिरोया है, बेटी को मेरी तरफ से बहुत शुभकामना! उसके लिए दो पंक्तियाँ......
    दुःख अजनबी की तरह मुह मोड़ कर चल दे
    हर मोड़ पर खुशियों से मुलाकात हो!

    ReplyDelete
  46. बहुत ही भावविभोर कर गई आपकी रचना...
    और...इस मौके पर अपना एक शेर याद आ गया-
    बादलों के पार मैं इक और ही दुनिया में था
    थामकर उंगली चली, नन्ही परी जब साथ में.
    बिटिया को जन्मदिन की शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  47. bhawnaon se labalab bahut hi sashakt lekhni hai aapki.

    ReplyDelete
  48. very nice post... sare photo's bouth he aache lagee

    Lyrics Mantra
    Music Bol

    ReplyDelete
  49. Wah, ma k liye yeh bhaav mae samajh sakti hoon..Mae kyunki Ishwar se yehi maangti hoon ki Hey Ishwer ma k jaaney ka dukh shayad mae jheil na paaun tu mujhey unse pehley hee utha lena..many many happy returns of the day for your beautiful daughter..may she imbibe all the beautiful qualities of her beautiful mother.

    ReplyDelete
  50. आपकी रचना दिल में उतर गयी सीढ़ी ... बिटिया को देरी से ही सही पर जनम दिन बहुत बहुत मुबारक ...

    ReplyDelete
  51. मार्मिक ..कोमल और मन को स्पर्श करता मातृत्व और वात्सल्य का अनूठा संगम....माँ और बेटी और फिर माँ और बेटी ..स्नेह का ये शास्वत बंधन ...यूँ ही पुष्पित होता रहे....
    प्रिय बिटिया सौम्या को शुभ जन्म दिवस पर ढेर सारा स्नेह एवं शुभ कामनाएं.....

    ReplyDelete
  52. सौम्य सी सौम्या को जन्म दिन की लंबित बधाई स्वीकार करें
    एक अनुरोध है इस कविता में सत्मार्ग के स्थान पर सत्य-मार्ग अथवा सन्मार्ग एवं सम्मान के स्थान पर समान कर लेने का कष्ट करेंगी

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails