Thursday, January 12, 2012

तुम आई जब से मेरे आँगन में - डॉ नूतन गैरोला


माँ का मन बेटी के लिए जाने कितनी ही दुवाएं करता है, उसे मिल जाती है एक नन्ही खुशी झोली में, यह खुशी दुनियाँ जहां की खुशियाँ बन,   बन जाता है उसका अपना खुशियों का आसमान  | माँ की दुलारी लाडली जब थोड़ी बड़ी होने लगती है तो घर भर में खुशियों की लहर बन कर बहने लगती, माँ पिता और घर में सबका ख्याल रखने लगती है और माँ की वह नन्हीं बेटी माँ की सहेली बन जाती है, उसके सुख दुःख की साथी|

                                               एक प्रार्थना थी

              नन्ही परी तुम फूलों पर रख पाँव आना मेरे घर
              रेशमी किरणें चाँद की संग साथ लाना मेरे घर ...

                  317331_2239782328425_1664044845_2173368_350324984_n

और वह परी मेरे घर आ गयी, नन्ही गुड़िया  जैसी   - बेटी के रूप में - आज उसका जन्मदिन है|  यह खुशियां मैं आप सब के साथ साझा कर रही हूँ..  

                                          
                                        

                                                      
   
अभी तुम नन्ही कली मासूम नाजुक सी
धरती पर उतरी इक भोली परी सी
अभी जानना है तुम्हें धरती समुन्दर जहां को
और छूना है आसमां को
माँ पिता के नाम और सम्मान को बढ़ाना |
यशस्वी बनो तुम विजयी बनो तुम
तन मन स्वस्थ बनाना
दुवा है मेरी प्रिया तुम सबकी प्रिय रहो
सुख की ज्योति संग प्रकाशमान रहो  
दीर्घायु रहो तन्दुरस्त रहो
मुश्किलों में भी मार्ग प्रशस्त करो|
अपनों का अविरल प्रेम पाना
बिटिया रानी तुम्हारी झलक को देखने को हों व्याकुल
तुम इतना यश नाम पाना |
सुख समृद्धि स्वास्थ 
और हो अपनों का साथ 
तुम जीवन में सच्ची खुशियाँ पाना |

डॉ नूतन गैरोला
यह कविता पिछले साल भाई जोगेन्द्र सिंह जोगी जी को बेटी झलक के जन्मदिन पर दी थी और वंदना जी की बेटी भामिनी के जन्मदिन पर  | आज यहाँ ब्लॉग में पोस्ट की है |




माँ का मन कहता है बेटी के लिए


   31723_1358293891765_1664044845_816142_290430_n
  मैं और मेरी बेटी सौम्या / प्रिया

तुम आई जब से मेरे आँगन में



मेरे आँगन में रोज जब चिड़िया चहकती थी
मैं बस सोचा करती थी
ये बोलती हैं क्या?
तुम आई जब से मेरे आँगन में
समझ आने लगा है मुझे
चिड़ियों की चहक में होता है क्या …

बचपन मेरा बीता
दौड़ते भागते रंगबिरंगी तितलियों के पीछे
तुम आई जब से मेरे आँगन में
जाना है मैंने
बचपन की वह सुनहली मासूम चंचल तितली
दौड़ भाग उछल रही है इर्द-गिर्द मेरे
पीछे पड़ी रहती हर वक़्त ऐसे कि
मैं उसके लिए रसभरा फूल हो गयी हूँ जैसे 
मेरी गोद में बैठ मेरे साथ वो कितना खुश होती है
देख ये मैं भी तृप्त होती हूँ | …….
=========================

उसके लिए -
फूलों से खिलती है तेरी हंसी
तेरे होने से महकता है सारा घर
मासूम आँखों में अटके जब भी आंसू के दो बूँद
दिल मेरा दुःख का दरिया होता है ..
तुम मेरे लिए सुबह की धूप हो
तुम दोपहर की धूप में छाया हो
तुम रात की खिलती चांदनी हो
तुम तम को मिटाती आभा हो
तुम मरु पर बरसता पावस हो|
तुम पतझड़ में खिलता बसंत हो
 तुम चन्दन में बसी महक सी हो
तुम मेरी प्यारी गुडिया हो ||
आ तुझे मैं काला टीका लगा दूं
दुनियाँ जहां की नजर से बचा लूँ|
|
……. डॉ नूतन गैरोला १२ / जनवरी /२०११ 

                                                  मुझे मिली परी
                                     …पिछले साल की पोस्ट .. ११-०१-२०१२                                                 

                                       mother_child_79_thumb[2]


                                                            डॉ नूतन गैरोला
                सभी ब्लॉग मित्रों को नववर्ष पर शुभकामनाएं और  शुभदिवस

38 comments:

  1. आनन्द बढ़ाती सुन्दर और प्यारी रचनायें, बार बार पढ़ने का मन करता है।

    ReplyDelete
  2. जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  3. ममतामयी पोस्ट!! बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  4. भावमय करते शब्‍दों का संगम है इस रचना ...बिटिया को जन्‍मदिन की शुभकामनाओं के साथ बधाई ।

    ReplyDelete
  5. बेटियां सही में बहुत ही प्यारी लगती है नूतन जी !...आप ने अपने मनोभाव इतनी सुंदरता से यहाँ उतारे है कि मन असीम तृप्ति का अनुभव करता है!

    ...मेरी कहानी आप को पसंद आई इसके लिए धन्यवाद!...कहानी लिखते समय मैंने गलती से बीच में अपना घरेलू नाम'अनु'लिख डाला था!...

    ReplyDelete
  6. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति

    शुक्रवारीय चर्चा मंच पर

    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. क्या इत्तेफाक है नूतन जी ! मेरी बेटी का नाम भी सौम्या है :).
    आपकी भावनाएं ये खूबसूरत शब्द पूरी तरह बयाँ कर रहे हैं.आपको और आपकी बिटिया को उसका जन्म दिन बहुत बहुत शुभ हो.

    ReplyDelete
  8. बड़ी सुंदरता से सबकुछ सहेजा है!
    आपकी बिटिया को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  9. A lot of congrats to u & ur family & Happy birthday my dear sister :)

    ReplyDelete
  10. नूतन जी प्रिया[सौम्य]बिटिया को हमारी ओर से शुभाशीष साथ ही बधाई एवं शुभकामनायें ....

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...बिटिया को जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनाएं और आशीष !

    ReplyDelete
  12. प्रिय सोम्या/प्रिया को बहुत बहुत हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ.

    आपके पवित्र मातृत्व के ईश्वरीय भावों से सोम्या नित फले फूले
    और ब्राह्य और आंतरिक जगत को भी अति सोम्य और सुन्दर
    बनाये, यही दुआ और कामना है मेरी.

    आपको मैंने मेल पर अपना ई मेल पता भेजा था.
    मेरा कोई भी कमेन्ट आपकी पिछली पोस्ट पर दिखलाई
    नही दे रहा है.आप यदि अपना ई मेल दें तो उसपर
    मैं मेसेज कर दूँगा.मेरा ई मेल आपको स्वत: मिल
    जायेगा.

    ReplyDelete
  13. जन्म दिन की बहुत२ बधाई,..शुभकामनाये बहुत सुंदर प्रस्तुति,
    welcome to new post --काव्यान्जलि--यह कदंम का पेड़--

    ReplyDelete
  14. नन्‍ही बिटिया को ढेर सारा आशीर्वाद।
    खूब तरक्‍की करे........

    ReplyDelete
  15. मेरे कमेंट्स आपकी पोस्टों पर दिखलाई नही पड़ रहे हैं.
    पिछली पर दो और इसपर एक टिपण्णी कर चुका हूँ.

    ReplyDelete
  16. श्री राकेश कुमार जी की टिपण्णी और आशीर वचन जो स्पाम बॉक्स से डीलिट हो गया था .. वह यहाँ पर हैं ...

    प्रिय सोम्या/प्रिया को बहुत बहुत हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ.

    आपके पवित्र मातृत्व के ईश्वरीय भावों से सोम्या नित फले फूले
    और ब्राह्य और आंतरिक जगत को भी अति सोम्य और सुन्दर
    बनाये, यही दुआ और कामना है मेरी.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Priya saumya ko Janam din ki hardik badhai aur ashirvad swarup usk liye:-

      Saral Sahaj jeevan ho uska aur jeevan mein utsah bhara ho,
      Nirvighna Lakshya ki Prapti ho, aur Jeevan ullas purna ho.

      Nutan Ji k liys:-

      Maa ki mamta aur maa k sapno ko shabdon mein murta Rup dekar apne maa aur samvedansheel va kushal kaviyari dono ki bhumika bakhub nibhai hai.

      Delete
  17. सौम्या बिटिया को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    अपको भी बधाई|

    ReplyDelete
  18. bahut pyari rachna. bitiya ko janmdin ki bahut badhai aur shubhkaamnaayen.

    ReplyDelete
  19. प्रिय सौम्या को ढेर सारा आशीष ..
    तुम बसंत बन यूँ ही मुस्कान
    हरित सौंदर्य से धरी पर छा जाना
    मम्मी पापा और हम सबकी दुलारी
    सुख सौभाग्य की तुम बनो दुलारी....
    अंतर मन से प्रार्थना है हमारी .......

    ReplyDelete
  20. प्रिय सौम्या को ढेर सारा आशीष ..
    तुम बसंत बन यूँ ही मुस्कान
    हरित सौंदर्य सी धरा पर छा जाना
    मम्मी पापा और हम सबकी दुलारी
    सुख सौभाग्य की तुम बनो दुलारी....
    अंतर मन से प्रार्थना है हमारी .......

    ReplyDelete
  21. माँ के निस्सीम स्नेह को शब्द रूप आकार देती एक रचना ,प्यार ही प्यार माँ का प्यार अपार .बधाई जन्म दिन की नन्नी परी को ,प्रसन्न बदना माँ को .

    ReplyDelete
  22. Priya saumya ko Janam din ki hardik badhai aur ashirvad swarup usk liye:-

    Saral Sahaj jeevan ho uska aur jeevan mein utsah bhara ho,
    Nirvighna Lakshya ki Prapti ho, aur Jeevan ullas purna ho.

    Nutan Ji k liys:-

    Maa ki mamta aur maa k sapno ko shabdon mein murta Rup dekar apne maa aur samvedansheel va kushal kaviyari dono ki bhumika bakhub nibhai hai.

    ReplyDelete
  23. जब ऐसी सुंदर बिटिया हो तो रचनाएं भी सुंदर होंगी ही॥

    ReplyDelete
  24. बिटिया रानी को जन्मदिन पर ढेर सारा प्यार और आशीर्वाद ...

    ReplyDelete
  25. बिटिया को जन्‍मदिन की बधाई।

    ReplyDelete
  26. कोई फर्क नहीं पड़ता कि मैं थोड़ी देर से आया हूं। शुभकामनाओं का दौर जितना लम्बा चले,उतना अच्छा।

    ReplyDelete
  27. माँ और बेटी के प्यार का बहुत ही सुन्दर वर्णन आपने इन पक्तियो के माध्यम से किया है ...
    माँ तो माँ है हमेशा बेटी कि सुख के लिए क्या क्या नहीं करती ..
    सौम्य को जन्मदिन कि सुभकामनाये (belaed)

    ReplyDelete
  28. बिटिया के जन्मदिन पर हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  29. नूतन जी ,मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.
    मुझे आपका बेसब्री से इंतजार रहता है.
    आपके पतिदेव और आपके भाई साहब का भी.
    सत्संग की यही महिमा है.
    सन्त जन के दर्शन और सुवचनों के लिए
    नेत्र और कर्ण सदा पिपासु रहते हैं.

    ReplyDelete
  30. प्रिय सौम्या को जन्मदिन की स्नेहिल बधाइयां और शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  31. Welcome to www.funandlearns.com

    You are welcome to Fun and Learns Blog Aggregator. It is the fastest and latest way to Ping your blog, site or RSS Feed and gain traffic and exposure in real-time. It is a network of world's best blogs and bloggers. We request you please register here and submit your precious blog in this Blog Aggregator.

    Add your blog now!

    Thank you
    Fun and Learns Team
    www.funandlearns.com

    ReplyDelete
  32. माँ की ममता का सुन्दर भावपूर्ण चित्रण...
    बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  33. प्रभु से प्रार्थना करता हूँ कि आप कुशल मंगल से हों.
    बहुत दिनों से आपका कोई समाचार नहीं,नूतन जी.
    कृपया,कुशलता का समाचार अवश्य दीजियेगा.

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails