Wednesday, July 18, 2012

My clicks My Photos - सुबह बगिया के सैर

   आज सुबह ७:१५ से ७:४५ (17/8/2012 )तक मैंने सैर की -- और अपने साथियों की तस्वीर खींच ली |
आज चंद लम्हों में समेटा
दुनियाँ जहां का प्यार
मेरी बगिया की गिलहरी
चिड़िया चीं चीं चहकती
मुझसे बेपरवाह रहती
मेरे इर्दगिर्द टहलती |
और दीवार पर  
मेरे समान्तर घूमते रहते
एक परिवार के नेवले
आवाज लगाते और कहते
हम है साथी सैर के
ज़रा इधर भी देख ले |

मैंने आव देखा न ताव ..तुरंत उन्हें अपने कैमरे से पकड़ लिया …

सभी फोटो मेरी खींची, मेरी पर्सनल फोटो हैं…


सुबह बगीचे में टहलते हुए  खींची हुवी तस्वीरोंकुछ एक ये   - १७ जुलाई २०१२

१)
                   
DSC_1196-001
                             
                                                       गिल्लू तू रोज आना …



२)
                  
DSC_1197-001

                                                     गमले पर फुदकती चिड़िया ….



३)
                   
DSC_1198-001


                                       आँगन में दौड रही थी .. केमरे ने स्थिर कर दिया




४)
                     
DSC_1200-001

                                  जब तक हरियाली पर नंगे पाँव नहीं टहला तो आनन्द कहाँ .
                                                      अब वह हरी घास पर टहल रही है …




५)
                   
DSC_1202-001

   
                                                लेंटाना  के जंगली फूल मुस्कुराने लगे ..



६ )
                   
DSC_1203
            

                                 
नेवले का यह परिवार - बच्चा दीवार पर आया ही नहीं …


७)

                    
DSC_1204-001
 
                                      बाबू जी धीमे चलना, कांच भरी राहे, ज़रा संभलना


८)                                         

                
DSC_1205-001

                                   थोडा सुस्ता लूँ ? अपनी फोटो खिंचवा लूँ ?


९)
                      
             
DSC_1211-001

                                               हम भी खिल उठे है आपके लिए


१०-)

              
DSC_1212-001
                                 ओंस की बूंदे पत्तों पे छलके, पंखुडियां सजी हैं गुलाबी रंग मलके
                                             खिलने लगी है धूप हल्के हल्के 
                                 



११ )
              
              
DSC_1221-002

                                             पेड़ों के पीछे, दूब का हरा गाँव
                                             काली चिड़िया लगाए शिकारी दांव


१२ )
                
DSC_1223-001 

                                      
जहां वो थी वहीं मैं हूँ
                                       बचा हुवा कुछ हो, देख रहा हूँ |



१३ )
                
DSC_1226-001
          
                                       
छुपन छुपाई
                                मैंने खुद को छुपाया है,
                                आपकी आँखों के आगे हूँ,
                                फिर भी खुद को ओझल बनाया है |




                 
DSC_1227-001

                                          खिलते हैं गुल यहाँ खिल के बिखरने को …




                    DSC_1214-001

                                             अच्छा तो हम चलते हैं -- बाय बाय
                                          
                                                                                                        

                      डॉ नूतन गैरोला -
              फोटो - जुलाई १७ २०१२ ७:१५ से ७:४५ AM
              पोस्ट - जुलाई १८ २०१२ १:१५ am 


  

27 comments:

  1. वाह नूतन जी.....
    मनभावन फोटोस....
    जीनिया का क्या चटक रंग पकड़ा आपके कैमरे ने.....
    नवेला भी ????
    बहुत बढ़िया..

    अनु

    ReplyDelete
  2. जीवंत तस्वीरे देखकर प्रकृति कि सुंदरता का एहसास हुआ

    ReplyDelete
  3. सुंदर तस्वीरे - खुशियाँ ढूँढने से भी मिला जाती है ....

    ReplyDelete
  4. वाह बहुत खूब ..जीवंत तस्वीरें चटक रंग से सुर्ख कलियाँ और उछालते कूदते आल्हादित नन्हे प्राणी .......उतनी ही खूबसूरत कब्यांजलि....जय हो

    ReplyDelete
  5. Awesome.... Awesome clicks... n equally attractive captions.... an instinctive salute to ur imagination n expressions....

    ReplyDelete
  6. अत्यंत सुंदर चित्र और उन पर उतने ही सुंदर शब्द उन पर संजोये हैं आपने. पृकृति के इन खूबसूरत लम्हों को पकडने की नजर है आपमें, बहुत खूबसूरत.

    रामराम.

    ReplyDelete
  7. waah subeh ki sair ka mujhe bhi aanand aa gaya. lekin newle se dar lagta he na baba. aise bhayankar jaanwar bhi paalte ho ???? bap re bap....!!

    ReplyDelete
  8. ▬● नूतन और उसकी नज़र... दोनों ही कमाल हैं...

    ReplyDelete
  9. सुन्दर चित्रों के साथ फोटो फीचर बहुत बढ़िया रहा!

    ReplyDelete
  10. वाह, नित्य इतने सुन्दर दृश्य देख मन प्रसन्न हो जाता होगा आपका।

    ReplyDelete
  11. प्रकृति के इन खूबसूरत लम्हों की लाजबाब तस्वीर,,,,,,

    RECENT POST ...: आई देश में आंधियाँ....

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर तस्‍वीरें हैं ..

    तस्‍वीरों के साथ टिप्‍पणियां अच्‍छी ..
    फुर्ती से ही संभव हो पाया होगा यह सब ..

    समग्र गत्‍यात्‍मक ज्‍योतिष

    ReplyDelete
  13. sundar prastuti .ham bhi roj in gilhariyon se milte hai aur ye aapke bare me khoob bate karti hain .समझें हम

    ReplyDelete
  14. नूतन जी शुभप्रभात. फेसबुक पर 'एक सुबह की सैर में मेरे चुलबुले साथी और उनकी फोटो,' पर एक सरसरी नजर डाली. फिर उत्सुकता हुई क्यों न आपके ब्लॉग पर आपके साथियों से मिल लिया जाये. मिलकर आनन्द आ गया और आपका लेखिका के अतिरिक्त एक उच्च कोटि के स्पौट फोटोग्राफर के रूप में परिचय भी मिल गया.. आपका हर क्लिक शानदार और जानदार है. अगली बार जब भी आप सैर पर जाएँ तो अपने इन प्यारे चुलबुले साथियों को मेरी तरफ से भी शुभप्रभात और शुभ कामना कहियेगा. सचमुच जीवन का सही लुफ्त आप उठा रही हैं आप.
    जय प्रकाश डंगवाल.

    ReplyDelete
  15. बहुत आकर्षक तस्वीरें उतारी हैं आपके कैमरे ने...

    ReplyDelete
  16. आप इस फ़न में भी माहिर हैं ... सुन्‍दर प्रस्‍तुतिकरण की बधाई

    ReplyDelete
  17. वाह .. सभी फोटो और उनपे लिखा कलाम ... लाजवाब है ..

    ReplyDelete
  18. नूतन जी आपकी फोटोग्राफी की भी दाद देनी पड़ेगी बहुत सुन्दर वर्णन और तस्वीरें

    ReplyDelete
  19. बहुत अच्छी फोटो हैं और रचना भी.

    ReplyDelete
  20. आपकी फोटोग्राफी पसंद आयी ...
    सुबह सुबह एस एल आर कैमरा और भारी भरकम लेंस के साथ सैर या फोटोग्राफी ...??? :)

    बधाई आपको !

    ReplyDelete
  21. sunder kavita ,sunder chitra.wah jinia ka rang dekhkar maza aa gaya......

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails