Sunday, May 1, 2011

वो स्त्री और चित्रकार - डॉ नूतन गैरोला


     painter                           


वो एक कलाकार था और एक चित्रकार भी
रंग भरता रहा जिन तस्वीरों पर
यादों के पन्नों पर उकेरी वो आकृतियाँ
चटख रंगों से
हर आँखों में असमंजस भरती हुवी
मन का केनवास नहीं बदला था,
बदली नहीं थी कुछ हाथ की तूलिकाएं
बदला था दिल
बदल गए थे पात्र
महज कुछ तूलिकाएं जो जुडी थी उस स्त्री की यादों से
फैंक दी गयीं
दूर से ही केनवास पे नजरे गाढ़े वह स्त्री
और उसे जलाता गया वह चित्रकार 
निःशब्द थी वह स्त्री, मौन आवाक
और उंगलियां चित्रकार की खींचती रही नित नयी कई आकृतियाँ
निर्वस्त्र रेखाएं, पिघलते रंगों से दहकते ढकते
और आँखों पे उस स्त्री के कोई किरकिरा चुभता रहा
साँसों को काटता बरछी सा
सीने को चाक करता रहा
और वह मूक जलती रही
तीव्र प्रेम की वेदना में धुंवा धुंवा होती रही
जाना था उसने प्यार है
ये जलना, पिघलना, धुंवा होना, राख होना
उस स्त्री को रास आने लगा था जलना
कहती थी वह-
चित्रकार तू जलाता रह
तेरी जिद की हद भी मैं जानती हूँ
अब मैं सिर्फ धुंवा होना राख होना मांगती हूँ
और बस आखिर में एक और अहसान मांगती हूँ 
मेरी कुछ तस्वीरें जो बोझा होंगी नए चित्रों के रिश्तों में
और धूल में पड़ी कहीं कूड़े में अपना ठिकाना ढूंढती होंगी,
बस एक एक कर उन चित्रों को जला दे,
कर्ज इस स्त्री की वफ़ा का कुछ इस तरह चुका दे
फिर खुद को स्वछन्द खुली हवा दे,
और नए रंगों को, नयी आकृतियों को अपने केनवास  में पनाह दे,

इस जलन को इस आग को खुल के हवा दे|

 

 

nutan ..burning

Photo –  My Own Photo Edited in Web.

 

डॉ नूतन डिमरी गैरोला



 

53 comments:

  1. दो सीमायें व्यक्त करते चित्र और बीच में झूमती कविता।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही गहरे भावों को समेटे उत्कृष्ट रचना....क्या चित्रण किया है..लाजवाब।

    ReplyDelete
  3. nutan , shabd -chitr sundar ban pada hai . bas isi tarah likhti raho. hardik badhai! ye rachna pahale ki rachnaon se nitant alag hai. gathan hai kavita mein, jo aakarshit karta hai.

    ReplyDelete
  4. bahut gahan bhavon ko ukerti aapki rachna sarahniy hai .badhai .

    ReplyDelete
  5. वफ़ा के बदले कुछ दे न दे पर बद्दुआ तो न दे :)

    ReplyDelete
  6. वाह बहुत ही गहरी भावपुर्ण रचना, धन्यवाद

    ReplyDelete
  7. इस जलन को आग को खुल कर हवा दे ..बहुत गहन भाव लिए अच्छी रचना

    ReplyDelete
  8. कलाकार तो कमाल है... :)

    ReplyDelete
  9. बहुत गहन भावों को उकेरती एक सराहनीय रचना| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  10. उफ़ ....!
    मन को हिला गयी यह रचना ....हार्दिक शुभकामनायें आपको !!

    ReplyDelete
  11. कैसी है आपकी यह रचना ? दिल को छू ही नहीं रही ,दिल को जला रही है.एक कशिश व तडफ पैदा कर रही है.
    आपकी भावपूर्ण,दिल को कचोटती अनुपम अभिव्यक्ति को मेरा सादर नमन.आभार.

    ReplyDelete
  12. सुंदर प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  13. यही समर्पण और सर्वस्व न्यौछवार की अभिलाषा तो प्यार है!
    वाह
    वाह! अद्भुत!!

    ReplyDelete
  14. बहुत गहरे भाव समेटे एक उत्कृष्ट मर्मस्पर्शी रचना..आभार

    ReplyDelete
  15. ओह्…………बेहद गहन और मार्मिक्…………आज फ़ेसबुक पर ऐसा ही मिलता कुछ मैने भी लिखा है सुबह्………यही कैनवस यही मन और यही चित्रकार ……………कभी कभी कैसी समानता सी आ जाती है ना विचारों में।

    ReplyDelete
  16. मन का केनवास नहीं बदला था,
    बदली नहीं थी कुछ हाथ की तूलिकाएं
    बदला था दिल
    बदल गए थे पात्र
    महज कुछ तूलिकाएं जो जुडी थी उस स्त्री की यादों से
    फैंक दी गयीं
    दूर से ही केनवास पे नजरे गाढ़े वह स्त्री
    .....सच! समय कितना कुछ बदल देता है! सबकुछ रंगमंच की तरह चलता रहता है .....एक आता है दूसरा जाता है...
    बहुत अच्छी भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  17. बहुत गहरे भाओं को उकेरती सुन्दर रचना| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  18. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 03- 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  19. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 03- 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  20. waah ...aapne to dil ko cheer kar rakh diya nutan ji ...gahri vedna .....prem me hari hui stri ki vyatha ...chitrkaar premi ko nye chehro ki talaash ...kya baat.....bahut sunder likha aapne ....mantrmugdh si padti chali gai ...saadar...

    ReplyDelete
  21. इस जलन को इस आग को खुल के हवा दे|

    बहुत दर्द भरा है इस रचना में ! उसके मन की आँच औरों तक भी पहुँच रही है ! प्रभावशाली प्रस्तुति ! बधाई स्वीकार करें !

    ReplyDelete
  22. भावपूर्ण अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  23. इस जलन को इस आग को खुल कर हवा दे ...
    सीमे सुलगने से अच्छा एक बार ही फूंक दे ...
    मार्मिक अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  24. गहन भाव लिए उत्कृष्ट रचना.

    ReplyDelete
  25. वाह नूतन जी ...............

    गहनतम एहसासों को मार्मिक अभिव्यक्ति देती आपकी गज़ब की रचना ह्रदय की गहराइयों से निकली है .....और ह्रदय में गहराई तक उतर जा रही है |

    ReplyDelete
  26. बस एक एक कर उन चित्रों को जला दे,
    कर्ज इस स्त्री की वफ़ा का कुछ इस तरह चुका दे
    फिर खुद को स्वछन्द खुली हवा दे,
    और नए रंगों को, नयी आकृतियों को अपने केनवास में पनाह दे,

    इस जलन को इस आग को खुल के हवा दे|
    ..
    बेहद अफसोश है कि चित्रकार हर बार एक पुरुष ही होता है ....पता नही ऐसा क्यों होता है....हर बार हर एक के अहसासों में....एक जो कांटा सा होता है वो कोई ना कोई आदमी ही होता है.....
    डा. साहिबा धन्यवाद दुखी करने के लिए .....या अगर यूँ कहूं तो इतनी सहजता से सम्बन्धों के उहापोह को कैनवास पर उतरा है कि....मन अजीब सा हो गया.!
    एक लेखिका कि यही सफलता है बधाई हो !

    ReplyDelete
  27. bahut marmik chitran kar diya aapne ek canvas par utarti aakriti ka apne man ke bhaavo ka. sunder abhivyakti.

    ReplyDelete
  28. श्रीमान जी, मैंने अपने अनुभवों के आधार ""आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें"" हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है. मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग www.rksirfiraa.blogspot.com पर टिप्पणी करने एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.

    ReplyDelete
  29. बहुत गहरे भाव लिए रचना .....फोटो और पोस्ट का प्रस्तुतीकरण बहुत उम्दा .....हमेशा की तरह

    ReplyDelete
  30. मार्मिक,गहन अनुभूतियाँ.

    ReplyDelete
  31. बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने लाजवाब रचना लिखा है जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

    ReplyDelete
  32. श्रीमान जी, क्या आप हिंदी से प्रेम करते हैं? तब एक बार जरुर आये. मैंने अपने अनुभवों के आधार ""आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें"" हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है. मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग www.rksirfiraa.blogspot.com पर टिप्पणी करने एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.

    श्रीमान जी, हिंदी के प्रचार-प्रसार हेतु सुझाव :-आप भी अपने ब्लोगों पर "अपने ब्लॉग में हिंदी में लिखने वाला विजेट" लगाए. मैंने भी कल ही लगाये है. इससे हिंदी प्रेमियों को सुविधा और लाभ होगा.

    ReplyDelete
  33. क्या ब्लॉगर मेरी थोड़ी मदद कर सकते हैं अगर मुझे थोडा-सा साथ(धर्म और जाति से ऊपर उठकर"इंसानियत" के फर्ज के चलते ब्लॉगर भाइयों का ही)और तकनीकी जानकारी मिल जाए तो मैं इन भ्रष्टाचारियों को बेनकाब करने के साथ ही अपने प्राणों की आहुति देने को भी तैयार हूँ. आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें

    ReplyDelete
  34. नए रंगों को, नयी आकृतियों को अपने केनवास में पनाह दे,
    --
    गहरे मनोभाव समेटे सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  35. मन के उलझे भावों के बीच चित्रकार को प्रमुख रख कर रचयिता को उदात्त रूप दिया है. सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  36. मन के बिभिन्न रंग गंभीर गहरे भाव उलझन को व्यक्त करे सुन्दर रचना
    बधाई हो

    अब मै सिर्फ धुवाँ होना राख होना मांगती हूँ
    चित्रकार तू जलाता रह -
    शुक्ल भ्रमर ५

    ReplyDelete
  37. डॉ० नूतन जी कमाल की कविता है बधाई और शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  38. कुछ रचनाएं ऐसी होती हैं, जिन्हें बार बार पढने का मन होता है। आपकी ये रचना उनमें से एक है। बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  39. कृपया मेरी भी कविता पढ़ें और अपनी राय दें..
    www.pradip13m.blogspot.com

    ReplyDelete
  40. Shyad pahli baar aapke blog par aana hua par eakdam saarthk...bahut gambeer lagi aapki rachna...bahut2 2 badhai..

    ReplyDelete
  41. बहुत ही सुंदर रचना और उसकी उतनी ही सुंदर प्रस्तुति ने चार चाँद लगा दिया........बहुत ही भावनात्मक एवं सुंदर लिखा है आपने !! :):)

    ReplyDelete
  42. Very different type of creation. Loving the pic and the Chitrkaar as well.

    ReplyDelete
  43. देर से आने के लिए क्षमा चाहता हूँ बहुत सार्थक रचना है आपकी | आपने मेरे पोस्ट पर आकर मेरा हौसला बढाया इसके लिए आपका धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  44. देर से आने के लिए क्षमा चाहता हूँ |बहुत खूब! कुछ तो है इस कविता में, जो मन को छू गयी।
    बहुत सार्थक रचना है आपकी | आपने मेरे पोस्ट पर आकर मेरा हौसला बढाया इसके लिए आपका धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  45. नूतन जी आपकी यह कविता एक अव्यक्त व्यथा में अभिषोक्त है -आदि से अन्त तक । कविता का पोर-पोर व्यथा का जीता -जागता अनुवाद 1

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails