Monday, June 6, 2011

पतंग इच्छाओं की - डॉ नूतन गैरोला

   

Presentation2
         

  उसकी पलकों में
सपनों की कीलों पर
इच्छाएं जीवनभर लटकती रहीं
उतरी नहीं जमीं पर
ठीक उसी तरह
जिस तरह
उसके बचपन की पतंग
शाखाओं के सलीब पर  अटकी रही
फड़फड़ाती रही, फटती रही
और बचपन अबोध आँखों से
पेड़ के नीचे इन्तजार करता रहा
डोर का, पतंग का|
कितने ही मौसम बदले
गर्मी आई बारिश आई
और कागज की लुगदी
टुकड़ा टुकड़ा टपकती गयी, बहती गयी
रह गया सिर्फ पंजर
बारिक बेंत का क्रोस
डाल पर झूलता
और वो पेड़ भी तो अब गिरने को है|

०६-०६ –२०११  २२:१५
डॉ नूतन गैरोला  

38 comments:

  1. उत्कृष्ट अभिव्यक्ति.... ....एक प्रभावी और संवेदनशील रचना .....

    ReplyDelete
  2. गहन भाव..उम्दा बिम्ब!!!

    ReplyDelete
  3. पतंग की संघर्ष यात्रा अच्छी लगी

    ReplyDelete
  4. पतंग के सहारे से जीवन की एक सच्चाई बयान कर दी आपने.
    क्या बात है.

    ReplyDelete
  5. पेड़ पर लटकना तो पतंग का ठिकाना नहीं, उसे तो बस उड़ना है, बारिश आने के पहले।

    ReplyDelete
  6. जीवन सन्दर्भों को सामने लाती कविता बहुत सशक्त अर्थ संप्रेषित करती है ....आपका आभार

    ReplyDelete
  7. सुंदर कविता नूतन जी

    ReplyDelete
  8. बचपन के सपनो की पतंग
    भविषय की सलीब पर लटकी रही--
    मेरे ख्याल से यहाँ शाखाओं की जगह भविशःय होना चाहिये था। बहुत ही अच्छी भावमय प्रस्तुती।

    ReplyDelete
  9. बेहद भावमयी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  10. बचपन के सपने सच में शाखा में लटकी पतंग ही तो बन कर रह जाते हैं..बहुत सटीक और संवेदनशील प्रस्तुति..बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर दिल को छूती हुई कविता !

    ReplyDelete
  12. बारीक बेंत का क्रॉस
    डाल पर झूलता

    सुंदर बिंबों से सजी रचना.

    ReplyDelete
  13. बहुत ही मार्मिक ... संवेदनशील अभिव्यक्ति है ... सच है बहुत से बचपन ऐसे ही पिंजरा हो जाते हैं ... उम्र भर अटके रहते हैं ...

    ReplyDelete
  14. Apka blog pahali baar dekha, bahut achchha likhti hain aap.

    it's great to see your blog.
    Regards, Gajender Bisht.

    ReplyDelete
  15. आपकी रचनाएँ सार्थक सोच की असीम गहराईयों से गुजरती हैं जो मन
    को उद्वेलित करती हैं .. उत्कृष्ट रचना साधुवाद जी /

    ReplyDelete
  16. अच्छे बिम्ब प्रयोग किये हैं ज़िंदगी की सच्चाई बताने के लिए ..सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  17. बहुत ही अच्छी भावमय प्रस्तुति| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  18. बहुत मार्मिक लेकिन सुंदर रचना, धन्यवाद

    ReplyDelete
  19. बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने! उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  20. bahut hi accha !mere blog par bhi aaye mere blog par aane ke liye yaha click kare- "samrat bundelkhand"

    ReplyDelete
  21. बहुत सुंदर.. पहली बार आपके ब्लाग को देख रहा हूं। वाकई अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  22. आपकी पोस्ट चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच

    ReplyDelete
  23. अपने मनोभाव को खूब सुन्दर अंदाज़ में समेटा है आपने डा० नूतन. बहुत खूब.
    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  24. wonderful creation . loving the expressions !

    ReplyDelete
  25. पतंग इच्छाओं की बहुत भावपूर्ण कविता है , जीवन के यथार्थ को पूरी मार्मिकता और तन्मयता से अभिव्यक्त करती हुई ।

    ReplyDelete
  26. रेह गया सिर्फ पंजर ... जीवन की अंत यात्रा ...
    एहसास महसूस कराती जीवन दर्शन ...?
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  27. उसके बचपन की पतंग
    शाखाओं के सलीब पर अटकी रही
    फड़फड़ाती रही, फटती रही
    और बचपन अबोध आँखों से
    पेड़ के नीचे इन्तजार करता रहा
    डोर का, पतंग का|

    क्या बखूबी वर्णन किया है डॉ. नूतन... बधाई|

    ReplyDelete
  28. खूबसूरत कविता... बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  29. बहुत ही बढ़िया रचना है,
    साभार- विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  30. बहुत ही अच्छा पोस्ट है ..... आभार ..मेरे नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है !
    Download Music
    Download Ready Movie

    ReplyDelete
  31. जीवन के एहसासों को खूबसूरती से परिभाषित करती खुबसूरत रचना |

    ReplyDelete
  32. अग्निहोत्री तेरे हसबेंड हैं ..क्या करते हैं वो.. यशवंत

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails