Tuesday, March 6, 2012

होली की शुभकामनाएं - डॉ नूतन गैरोला

      
कृष्ण का ब्रज से मथुरा चले जाना राधा को बहुत दुःख देता है| वृन्दावन की गलियां कृष्ण के बिना सूनी हो जाती हैं  | उस पर होली का त्यौहार भी राधा को उल्लासित नहीं कर पाता | वह कृष्ण के विरह में होली की रंगों की बरसात में भी खुद को जला और कुम्हलाया पाती है और वह कृष्ण से निवेदन करती है कि इस बार होली में ब्रज आ कर हमारे साथ होली खेलें | कई बरसों बाद कृष्ण  मथुरा से वापस आते हैं और राधा के दरवाजे पर होली के हुलियारे ग्वाल बालों के साथ होली खेलने जाते हैं और राधा गोपियाँ उन्हें रंग लगाने और भिगाने की कोशिश में ठंडाई पिलाते हैं उनकी पकौड़ियों में भांग भी मिला देते है | इस पर भी ग्वाल बाल उल्टे गोपियों को भीगा देते हैं| गोपियाँ डर कर भाग जाती हैं और राधा अकेली ग्वालों के बीच फंस जाती है| वह स्वयं को अकेला देख  डर कर काँपने लगती है तब कृष्ण उनको होली के रंगों के साथ प्रेम के रंग में भिगो देते है और उन्हें गले लगा देते हैं|

 

 

Radha-3

 

पिछली होली में किशन तुम बिन रंग न भाया,

रंगों की बरसात में, तन मेरा कुम्हलाया |

तन मेरा कुम्हलाया, प्रेम की वर्षा कर दो,

मथुरा तज ब्रज आ कर, खुशी से झोली  भर दो |

आ कर खेलो रंग, सजाई है रंगोली,

मिल कर खेलें फाग, भुलाएं पिछली होली||

 

 

 






                  holi2

 

होली के त्यौहार में, मची हुई हुड़दंग,

पानी रंग गुलाल संग, बाजे ढोल मृदंग|

बाजे ढोल मृदंग, मीठी गुजिया सारी,

बैर भूल गल मिल के, उल्लसित हैं नर नारी|

देख सखी न चुप बैठो, मिल बना लें टोली

गुलाल अबीर संग रंग के, आओ खेलें होली| 

 




 

 

           holi ki shubh kamane 123 greetings free download ecard online

 

                                 होली के हूलियारे

                                               आये हैं द्वारे

                                               लिए हुवे  संग

                                                 होली के रंग ||

 

                                                नटखट कान्हा

                                                 रंगा हुवा है

                                              तितली जैसे रंग

                                             संग होली के रंग |

 

                                              मन बन पतंग

                                             उड़ रहा राधा का

                                           कान्हा ही के संग |

 

                                              चांदी की सुराही

                                             चांदी का गिलास

                                   सखिया बुझा रही ग्वालों की

                                            ठंडाई से प्यास |

 

                                             राधा पर चढा

                                   श्याम सा नटखट चंचल रंग

                                       पकौड़ी बनाती वो तीखी

                                            मिला देती है भंग |

 

                                          गोपियों की पायल

                                    बाजे छमछम छमछम छम

                                        चढ़ा चढ़ा जब कान्हा पे

                                           भंग का मादक रंग  

                                           बजने लगे तेज तेज

                                             मधुर बांसुरी की धुन

                                                   और  

                                           ढोल मंजीरे चंग मृदंग ||

 

                                                शरारतें छिड़ी

                                             दोनों तरफ भारी

                                            बरसे केशर गुलाल

                                             अबीर पिचकारी |

 

                                             भीगी अंगिया

                                            भीगी चुनरिया

                                         भीगी गोपियाँ सारी|

                                           ग्वाल बाल चतुर

                                        देख गोपियाँ डर भागी

                                          जान अकेली राधा

                                        थरथर थरथर कांपी |

                                           देख राधा को डर

                                           मोहन मंद मुस्काए

                                            डाल अबीर गुलाल

                                        राधा को अंक लगाए ||

 

                                      कोयलिया कूंक लगाये

                                  गोपी-ग्वाल फाग गीत गाये|

                                         बरसों की प्यासी

                                           आलिंगन में|

                                                 राधा

                                           भीग रही थी

                                              कृष्ण की  

                                   प्रीती, तृप्ति, अनुराग से |

 

 

                                            डॉ नूतन गैरोला (६ मार्च २०१२ )

           

  होली और अंतर्राष्ट्रीय  महिला दिवस पर अग्रिम शुभकामनाएं 

                                     women-s-day-greeting-cards

                            पिछले साल अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर मेरी पोस्ट का लिंक

                        अमृतरस - अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर

                                          चलती हूँ ..होली की तैयारी जो करनी है .
                          सभी को होली की शुभकामनाएं और होली के रंग

                              holi-dayi 

                                               Happy Holi !!!
                                                      

24 comments:

  1. होली की ढेर सारी शुभकामनायें ----------राधा कृषण की होली की सुन्दर वर्णन

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप कोभी होली की बहुत – बहुत शुभकामना

      Delete
    2. आप कोभी होली की बहुत – बहुत शुभकामना

      Delete
  2. aapko bhi holi aur mahila divas ki shubh kamanayen:)

    ReplyDelete
  3. ब्रज भी रंगा , मथुरा भी सराबोर .... कोई न छूटे , कान्हा रंग डाले बरजोर
    शुभकामनाये ही शुभकामनायें

    ReplyDelete
  4. सुंदर मन भावन पोस्ट....स:परिवार होली की हार्दिक शुभकानाएं.......

    ReplyDelete
  5. डॉ नूतन जी होली के अवसर पर आपकी रंगारंग कविताएँ अबीर- गुलाल बनकर मानस पतल पर उतर गईं । बहुत शुभकामनाएँ और बधाई !!

    ReplyDelete
  6. जीवन के रंगों से भरी होली..

    ReplyDelete
  7. वाह! आपकी रंगारंग भक्तिमय प्रस्तुति से मन रंग गया है.
    अनुपम प्रस्तुति के लिए आभार.
    होली की आपको और सभी परिवार जन को बहुत बहुत
    हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    रंगों की बहार!
    छींटे और बौछार!!
    फुहार ही फुहार!!!
    होली का नमस्कार!
    रंगों के पर्व होलिकोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ!!!!

    ReplyDelete
  9. आपको भी होली मंगलमय हो सभी रचनायें रंगों से सरोबर है...........

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन प्रस्तुति,सुंदर होली की भाव अभिव्यक्ति....

    होली की बहुत२ बधाई शुभकामनाए...नूतन जी,...

    RECENT POST...काव्यान्जलि ...रंग रंगीली होली आई,

    ReplyDelete
  11. होली की शुभकामनायें .....हैप्पी होली.....

    ReplyDelete
  12. रंगों के पर्व होलिकोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  13. होली के अवसर पर एक शानदार पोस्ट ! होली मुबारक!

    ReplyDelete
  14. .

    आहाऽऽहाऽऽ… ! इतनी सुंदर होली पोस्ट !
    इतनी सुंदर रचनाएं !

    वाह वाह ! आनंद आ गया …
    आभार और बधाई !

    ReplyDelete
  15. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    ♥ होली ऐसी खेलिए, प्रेम पाए विस्तार ! ♥
    ♥ मरुथल मन में बह उठे… मृदु शीतल जल-धार !! ♥



    आपको सपरिवार
    होली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    *****************************************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    ReplyDelete
  16. राधा कान्हा प्रेम और रंगों के रंग में रंगी लाजवाब पोस्ट ...
    बेहतरीन प्रस्तुति है होली के उपलक्ष में ..
    आपको और आपके समस्त परिवार को होली की मंगल कामनाएं ...

    ReplyDelete
  17. होली की लख -लख बधाईयाँ , सुखी समृद्ध सरस गरिमामयी होली की कामना ,शुभकामना ......./

    ReplyDelete
  18. बहूत सुंदर रंग -बिरंगी
    मनभावन रचना....
    लाजवाब प्रस्तुती....
    होली पर्व कि ढेर सारी सारी शुभकामनाये
    ********************************

    ReplyDelete
  19. आपकी पोस्ट चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.com
    चर्चा मंच-812:चर्चाकार-दिलबाग विर्क>

    ReplyDelete
  20. राधा कृष्ण की होली का लाजवाब वर्णन...बधाई और शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  21. कृष्ण के बिन जब राधा अधूरी है...तो होली का त्यौहार भी कृष्ण के बिना राधा कैसे मनाएगी?...कृष्ण के प्रेम-रंग में भीगी हुई राधा का शब्द चित्र बहुत ही सुन्दर लगा...ढेरों बधाइयां!

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails