Saturday, March 17, 2012

My Clicks (1) कुछ रंग दुनियां के - डॉ नूतन गैरोला


कल का मेरा दिन नाजुक फूलों के साथ गुजरा ..
महका महका  हरा भरा ,,
कहीं खिलती थी चटख चांदनी ...
कहीं भवरों का  पहरा था …

और उस सुन्दर याद की तस्वीरें यहाँ ब्लॉग में साझा कर रही हूँ ...
कई रंगों के साथ सिर्फ एक फोटो जिसमे मैं हूँ वह मेरी खींची नहीं :)) .. have a good day ... Nutan
    
                

                                   फूलों के रंग से,   दिल की कलम से
                                                 तुझको लिखी है ये पाती 
 



                                             
                                                              
  लाल                                                                        
                      
DSC_0653
                                                    
                                                        न साथी मेरे हैं कांटे
                                             फिर भी गुलाब जैसा हूँ |
                                             न पानी मेरा बिस्तर है
                                             फिर भी कमल जैसा हूँ |
                                                                           
     
                                                                  
सफ़ेद
                       
DSC_0655
                                                    
                                                       मुझमे हैं सब रंग
                                            या सब रंग मुझसे ….सफ़ेद कितना खिलता है
|

                                 
                                                                      पीला

                                        
                           
DSC_0656
                                          
                                             पीला कितना ताजगी भरा खिलाखिला


                       
DSC_0696
                                                 मैं हूँ लाल, वो पीला
                                        वो हरा और तू नीला
                                        मिलजुल बनाएँ सुंदर जहां
                                        इंद्रधनुषी रंग सुनहला
|





                       
DSC_0681

                                                धरती में भी खिलते हैं
                                       दिन में सितारे

                                       आकाशगंगा  |


                        
DSC_0672

                                                  छूना न मुझे, अभी कली हूँ मैं  |




       
                       
DSC_0689

                                           अतिथि तुम आ बसो  म्हारे धाम
                                   रस भर भर पखारु चरण तुम्हारे
                                   आ बसो म्हारे धाम … : ))
   
                             
                             
                     
DSC_0687   
                                              कितना खूब मुस्कुराता है ये
                         


           
                     
DSC_0663

                                                   कांटो की दुनियां में
                                          मैं रंग भर देता हूँ नारंगी

                      
DSC_0685


                      DSC_0686

                                    कहते हैं दुनिया का असली रंग नीला है
                             नीला आकाश नीला पानी
                             नीला शीतलता की शांत वाणी





                                        आज इतने ही रंग ---   क्रमशः  नूतन
                                               




                                                           

                                                                

23 comments:

  1. बहुत बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर...............
    वो तो दिखी नहीं जो आपने नहीं खींची...
    :-)

    अगली कड़ी के इन्तेज़ार में..

    ReplyDelete
  4. रंगों की शब्दकारी..वाह..

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर चित्रों के संग भाव अभिव्यक्ति,बेहतरीन पोस्ट ,......

    MY RESENT POST... फुहार....: रिश्वत लिए वगैर....

    ReplyDelete
  6. खुबसूरत फूलों के साथ बहुत ही सुन्दर भाव शब्दों के माध्यम से दिया है आपने

    ReplyDelete
  7. बहुत खूबसूरत ... पर आप कहाँ हैं ?

    ReplyDelete
  8. अदभुत...... रंग बिरंगे फूलों से रूबरू -- खुबसूरत शब्दों के साथ... वाह !

    ReplyDelete
  9. कितने सुन्दर फूल!...इन के बिच समय गुजारना कितना आनददायक होता है!...बहुत अच्छा लग रहा है!

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  11. आपका जीवन में ऐसे ही खूबसूरत रंग बने रहें
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  12. वाह,खूब चुने हैं इंद्रधनुषी फूल,मन मोह लिया.

    ReplyDelete
  13. बहुत ख़ूबसूरत...

    ReplyDelete
  14. वाह ...बहुत ही बढि़या।

    ReplyDelete
  15. सुन्दर और खुबसूरत प्रस्तुतीकरण है आपकी, आपने सभी रंगों को एक नयी पहचान दी है, हार्दिक बधाई..

    ReplyDelete




  16. बहुत खूबसूरत !

    मनभावन ! आकर्षक रंग !


    बेहतरीन पोस्ट के लिए आभार !!

    ReplyDelete
  17. सुन्दर भावपूर्ण चित्रमय प्रस्तुति अनुपम रंगों का आभास करा रही है.
    रंग बिरंगे फूलों को देख मन मग्न हो गया है.
    अभी कुछ दिन पूर्व ऐसे ही बहुत से फूलों से बगीचा खिलखिला
    रहा था.आपके चित्र उनकी याद दिला रहे हैं.

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails