Wednesday, July 10, 2013

खुद से दूर - डॉ नूतन गैरोला


64039_424302410976546_463016642_n


तुम यकीन नहीं करोगे

सच

मेरी दौड है

खुद से

मैं खुद से जीत जाना चाहती हूँ

मैं यकीनन अपनी पहचान बचाना चाहती हूँ

तुम हो कि मेरे खुद में अतिक्रमण

कर चुके हो

व्याप्त हो चुके हो मुझमे

जैसे कोई दैत्य किसी देह में

आत्मा को जकड कर ………

पर

अभी चेतन्य है मन

और उसे मेरा यह खुद का रूप ग्राह्य भी नहीं

इसलिए वह दौड पड़ा है खुद से दूर

जैसे खुशियों से लिपटना चाहता हो पर

भाग रहा हो दुखों की ओर

और वह नदी

जो बलखाती तुम्हारे गाँव की ओर जा रही है

नहीं चाहती है पलट जाना

मुहाने की ओर

पर देखो

उसकी अविरल धार

रुकते रुकते सूख चुकी

क्यूंकि किसी ने भी नहीं चाहां

नदी का रुख मुड़े

तुम्हारे गाँव की ओर ……..

और

उसे बांधा गया है

बांधों में

पहाड़ी की दुसरी छोर|

जानती हूँ

अगर तुम नदी से मिलने आओगे

तो तोड़ दिए जायेंगे किनारे

दीवारे

सैलाबों मे ढाल दी जायेगी

नदी,

नदी नहीं रहेगी 

मिटा दी जायेगी|

……………………………………~nutan~  10 july 2013 .. 15:01

16 comments:

  1. वाह , खुद को खुदी से अलग करना , बहुत मुश्किल है, बहुत सुंदर भाव, शुभकामनाये , यहाँ भी पधारे
    रिश्तों का खोखलापन
    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_8.html

    ReplyDelete
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन चर्चा मे है मेट्रो - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  3. कोमल भावो की और मर्मस्पर्शी.. अभिवयक्ति ....

    ReplyDelete
  4. बहुत मार्मिक और भावुक रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. नित ही खुद से थोड़ा आगे,
    उठ कर सबसे पहले भागे।

    ReplyDelete
  6. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 11/07/2013 के चर्चा मंच पर है
    कृपया पधारें

    ReplyDelete
  7. भावपूर्ण कविता.

    ReplyDelete
  8. गहन भावों से युक्त रचना..

    ReplyDelete
  9. वाह . बहुत उम्दा,सुन्दर

    ReplyDelete
  10. खुद को कूद से जुदा करना ... बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  11. बहुत खुबसूरत रचना..नूतन जी..

    ReplyDelete
  12. सुन्दर को सुन्दर न लिखूं ,तो क्या लिखूं , शब्द सुन्दर, भाव सुन्दर, कुल मिलाकर सब सुन्दर ही सुन्दर .अब ये कैसे हो सकता है की मै न कहूँ ....तुम भी सुन्दर , हाँ भई तुम भी सुन्दर ये सारा जग ही सुन्दर है |
    'चन्दर' चन्द्र मोहन सिंगला.

    ReplyDelete
  13. सुन्दर रचना , के लिए हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  14. गहरी अभिव्यक्ति..... विचारणीय भाव

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails