Tuesday, September 14, 2010

आशा की किरणें -- Dr Nutan Gairola "amrita"

रात के  गहन  अन्धकार में  
आसमान  के  असीम विस्तार में |..

नहीं दिखता है अभी  तुम्हें 
धुंधला  रहस्य बिन्दु   निशा पटल पे |..

जहाँ से चीर के आएगी जिंदगी
स्वर्णिम आभा के संग किरणों की फुहार में |..

यकीन करना होगा बस तुम्हें ,
सूरज के प्रकाश में ,कुछ और बस .. 
 ....कुछ और पल के इन्तजार में !!

द्वारा -डॉ नूतन गैरोला -- १४=०९=२०१०   ००:३५

28 comments:

  1. बड़ी प्रभावी और सुंदर रचना.....
    आशावादी सोच को समेटे है..... अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. बेहद प्रभावशाली।

    ReplyDelete
  3. मोनिका जी सही कहा आशा और भरोसा ही वो सीडिया है जिन के होते हुवे हम बिना डगमगाए आगे बढ सकते है..

    ReplyDelete
  4. जी हां .. कौसल जी.. आशा और भरोसा ही हमें अपने मार्ग पर आड़े बढने में सहायक है

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  6. अमृता जी, कृपया मेरे मेल आईडी zakirlko@gmail.com पर संपर्क करने का कष्ट करें, जिससे आपको चित्र पहेली-92 का विजेता प्रमाण पत्र भेजा जा सके।

    ReplyDelete
  7. सुंदर रचना के लिए साधुवाद

    ReplyDelete
  8. सुंदर रचना के लिए साधुवाद

    ReplyDelete
  9. Zakir ji dhanyvaad... Nutan ji badhai .. :))

    ReplyDelete
  10. अच्छी प्रस्तुति,
    यहाँ भी पधारें:-
    अकेला कलम...

    ReplyDelete
  11. is post me kareeb 10 comments pehle ke kaha chaley gaye maloom nahi...... blog me shayad spam report ko dekhte samay koi galti huvi ho.sabhi comments delet miley...
    sorry un sab blog sathiyo ko jinhone apne bahumulaya tippaniya kee thein........

    ReplyDelete
  12. सुन्दर कवितायें बार-बार पढने पर मजबूर कर देती हैं.
    आपकी कवितायें उन्ही सुन्दर कविताओं में हैं.

    ReplyDelete
  13. Sanjay ji ! Shukriyaa aapka.. bahut khushi huvi.. shubhkaamnayein..

    ReplyDelete
  14. Nutan Ji
    Very good poem , hope is the "AMRIT" of life !!

    ReplyDelete
  15. डॉ. नूतन,
    बहुत ही सुंदर ब्लॉग है... ढ़ेर सारी बधाईयाँ |

    ReplyDelete
  16. बहुत खूब नूतन जी...सुबह की लालिमा बस अब रोशन करने को है..
    www.merachintan.blogspot.com

    ReplyDelete
  17. Pranav ji Thanks - Its a perfect saying that Hope is the " Amrit " of life - Regard

    ReplyDelete
  18. प्रतिबिम्ब जी !! धन्यवाद - शुभदिवस

    ReplyDelete
  19. बहुत सशक्त और प्रेरक रचना..

    ReplyDelete
  20. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails