Sunday, January 20, 2013

तू मुझको पनाह दे - नूतन

 

   Romantic-autumn-daydreaming-18932448-1024-768


    बेगुनाही की मेरी न मुझको सजा दे,
   खफा मुझसे तू क्यूँ, ए जिंदगी बता दे|
   जिन्दा बमुश्किल चाक- ए- जिगर संग
   हलाहल पिला के तू कुछ तो वफ़ा दे |
 
   बहार आ न पाई, खिजां ढल गयी है,
   खिली भी नहीं थी कि शाख गिर गयी है|
   न मसल इस कदर तू कदम रख संभल के
   उठा के कली को अब घर को सजा दे |

   वो दो दिन नहीं थे वो जीवन मेरा था
   रंगे बहार थी कि गुल खिल गए थे|
   किधर से उठा था तुफां जिल्लतों का
   जो बुझ के मिटा है वो चिराग-ए-यार मैं था|

    चाँद बादलों में, शबे गम ढल रही है
   आँखों में लहू की नदिया पिघल रही है|   
   पश्चिम में डूबा पर अब सहर हो रही है,
   दीदार यार दे कर तू अब  नूर-ए-जहां दे|
   
 
   बेगुनाही की मेरी न मुझको सजा दे,
   खफा मुझसे तू क्यूँ, ए जिंदगी बता दे
 
   दूरी तेरी न सही जा रही है 
   हार जाएगी मौत गर तू मुझको पनाह दे|
   तू मुझको पनाह दे, तू मुझको पनाह दे|

                                 ……………………… nutan ~~  … 11:57 pm 19=01= 2013
     

  

20 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर भावपूर्ण रचना।।।

    ReplyDelete
  2. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 23/01/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. जीवन में रमना चाहा था,
    हमने बस इतना ही माँगा।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति |
    आभार आदरेया ||

    ReplyDelete
  5. I stumbled while wandering and fell down here to find my self in AMRITRAS.

    ReplyDelete
  6. कोमल भावो की और मर्मस्पर्शी.. अभिवयक्ति .......

    ReplyDelete
  7. बेगुनाही की मेरी ना मुझको सजा दे.

    कोमल संवेदशील अहसास और उसकी सुंदर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  8. लाजवाब.....दिल के तूफान को अक्षरों से सजा दिया।

    ReplyDelete
  9. लाजवाब प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  10. लाजवाब प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  11. वाह!
    आपकी यह पोस्ट कल दिनांक 21-01-2013 के चर्चामंच पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    ReplyDelete
  12. उम्दा पेशकारी ......

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें.
    आपका ब्लॉग देखा मैने और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर!!

    ReplyDelete
  15. सुंदर प्रस्तुति.

    आपको गणतंत्र दिवस पर बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनायें.

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails