Monday, January 14, 2013

नाविक तुम कहाँ ?

 
nutan -thailand - potaung beech


लहरों सुनो!

न इठलाओ तुम

नहीं रखूंगी कदम उस ओर

जहां तुम पांवों पर मचला करती हो|

निमंत्रण देती हो डूब जाने को

मेरी नियति नहीं कि मैं डूब जाऊं

चाहा डूबना जब भी

पत्थर से जा टकराउ |

मेरे रास्ते के पत्थर अहिल्या बन कर

सर झुकायेंगे नहीं

चोट गहरी दे जायेंगे

पत्थर फिर भी न शर्मायेंगे |

इसलिए लहरों तुम न इतराओ

न मुझको और लुभाओ |

एक अदद नाव मुझे भी चाहिए

डूबने के लिए नहीं

पार पाने के लिए|

लगता है वह रेत के इस बियाबान में

कहीं फंसी पड़ी है..

नाविक तुम कहाँ हो? …. ……नूतन

 

तस्वीर – थाईलेंड .पोटंग बीच

11 comments:

  1. वाह... उम्दा, बेहतरीन अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  2. ्बहुत खूबसूरत प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. गहन भाव .... सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. अर्थ और विचार की सशक्त अभिव्यक्ति .सुन्दर भाव और संकल्पों की कविता .

    ReplyDelete
  5. नाव मिल जाए बस...फिर कश्ती को पार तो खुद ही लगा लेने की दम रखती है नारी....
    सुन्दर रचना नूतन जी...
    मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    अनु

    ReplyDelete
  6. सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    मकरसंक्रान्ति की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  7. लहरों का मदमाता ऊर्जस्वित अस्तित्व कुछ और ऊर्जा दे जाता है, जूझने के लिये, हर बार।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर,उम्दा प्रस्तुति,,,

    recent post: मातृभूमि,

    ReplyDelete
  9. सुंदर गहन भावभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  10. wahhh...Bahut umda Rachna ...
    http://ehsaasmere.blogspot.in/

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails